top of page
  • Writer's pictureKishori Raman

तीन मिनी कविताएँ

Updated: Sep 16, 2021


कविता

टूटे दिलो की तड़पन है और जमाने भर की पीड़ा या फिर कल्पनाओं और खुशियों का खुला आकाश जहाँ न हँसने का कोई समय होता है और न उड़ने की कोई सीमा ।

पैसा

ये रिश्ते नाते सब झूठ है सब एक जैसा सच है अगर तो केवल एक पैसा महत्वकाक्षाएं


महत्वकाक्षाएं जब पूरी नही होती तो बुरी हो जाती है अच्छी होती है तब जब वे पूरी हो जाती है। किशोरी रमण




52 views2 comments

2 Comments


Unknown member
Feb 09, 2022

very nice.....

Like

verma.vkv
verma.vkv
Sep 16, 2021

वाह, बहुत सुंदर और भावपूर्ण कविता ।

Like
Post: Blog2_Post
bottom of page